UT wordmark
College of Liberal Arts wordmark

Dentistry

Dentistry - Dr. Sanjeev Gulati: 2

mediaURI: 
About This Lesson: 
Dr. Sanjeev Gulati explains further the process of how dental diseases set in.
vocabulary (hindi): 

पान गुटका 

 

Betel leaf

तमाम बीमारियां 

 

All kinds of diseases

हैबीचुअल

 

Habitual

मसाला

 

Stuffing/ filling

गुटका

 

Tobacco

च्यूइंग-गम

 

Chewing gum

घिस

 

To rub/worn out

फाइब्रोसिस

 

Fibrosis

हानिकारक

 

Harmful

बिच्छू

 

Scorpio

पुड़िया

 

A small paper packet

दांत साफ करा दीजिये

 

Clean the teeth

वादा पूरा रख

 

Fulfill promise

मैल

 

Tartar

मसूढ़ों

 

Gums

बीमारी

 

Illness

हड्डी

 

Bone

जमेगी

 

Accumulate on top

गम्स

 

Gums

सरकती

 

Shift

दांत की जड़

 

Root of the tooth

मैल जमेगी

 

Accumulation of tartar

मसूढ़ा फूलेगा

 

Gums will swell

दंत चिकित्सक

 

Dentist

टैक्नीक

 

Technique

दर्द के मारे परेशान है

 

Suffering from pain

transcription (hindi): 

और किस किस उम्र के लोग, बच्चों से लेकर बूढ़ों तक आपके पास, ज्यादातर आपके पास किस तरह के लोग आते हैं?

देखिये, पेशैंट तो सभी age group के आते हैं, लेकिन ये है कि जो मिडिल age के लोग होते हैं वो ज्यादा होते हैं... हम समझते हैं कि maximum patient लेकिन ऐसे define करना जरा मुश्किल है क्योंकि सभी age group के काफी आते हैं... तो, लेकिन 25, 30, 20 तक तो काफी होते ही हैं...

एक वो भी कारण हो सकता है, जो पान, गुटका वगैरह...

हां, उसके वजह से तो और भी तमाम बीमारियाँ होती हैं ना... उसकी वजह से तो जो हैबिचुअल हैं पान-मसाला, गुटका, च्यूइंग-गम सबकी, उससे उनके दांत एक तो खत्म हो जाते हैं, घिस जाते हैं बुरी तरीके से... घिस करके दांत छोटे हो जाते हैं... फिर वो, उनको हवा पानी बहुत लगता है... दूसरी बात, फ़ाइब्रोसिस बहुत होने लगती है... मुंह नहीं खुलता उनका... तो वो सब, तमाम ट्रीटमेंट के लिये वो सब लोग आते ही हैं... लेकिन काफी लोग, एक चीज है कि गौरमैंट की ओर से काफी इस पर जो, जो गुटका खाना हानिकारक है और जो बिच्छू वगैरह बनाते हैं, पुड़िया के ऊपर... इधर लोगों में थोड़ा चेंज आया है कि कई लोग दिन में एक आध दो जरूर आते हैं लेकिन कहते हैं कि हम छोड़ना चाहते हैं, हमारा दाँत साफ़ करा दीजिए... अब हम नहीं खायेंगे... ये बात अलग है वो बेचारे, कम लोग होते हैं जो successful होते हैं... काफी लोग नहीं अपना वादा पूरा रख पाते... साफ करा लेते हैं लेकिन फिर खाने लगते हैं दो चार दिन के अंदर ही...

यहां बतायें कि ये जो कहते हैं कि दांतों का मैल जो है ये मसूढ़ों पर, दांतों की बीमारी मसूढ़ों पर क्या असर डालती है?

मसूढ़े गलने लगते हैं... देखिये ऐसा है कि दांत को ऐसे हड्डी होल्ड किये हुये है... तो जितना भी मैल जमेगी गम्स के बगल में, उतनी हड्डी नीचे सरकती जायेगी... और जैसे जैसे हड्डी नीचे सरकती जायेगी, तो जब ज्यादा सरक जायेगी हड्डी मैल की वजह से, तो दांत हिलने लगता है ऐसे... तो जो होल्ड है, grip जो है हड्डी का दाँत की जड़ के ऊपर, वो जितनी मैल जमेगी, उतनी जो है ये हड्डी नीचे उतरती जायेगी... और उसी के साथ साथ जो मैल जमी हुई है, मसूढ़ा फूलेगा, खून आयेगा, मवाद आयेगा, वो सब चीजें शुरू हो जायेंगी...

exercise (hindi): 

1) हर दिन पान मसाला, गुटका, च्यूइंग-गम खाने से क्या होता है?

१) दांत घिस कर छोटे हो जाते हैं

२) दांत में हवा पानी लगता है

३) फ़ाइब्रोसिस हो जाता है

४) ये सब होते हैं

2) दांतों के आसपास मैल जम जाने से मसूढों पर क्या असर होता है?

१) हड्डी नीचे सरक जाती है

२) दाँत हिलने लगते हैं

३) मसूढ़े से मवाद निकलने लगता है

४) सब होता है

vocabulary (urdu): 

content under development

transcription (urdu): 

content under development

exercise (urdu): 

content under development