UT wordmark
College of Liberal Arts wordmark

Illness / Advocacy

Dr. Richa Modi 07 - Health Education

mediaURI: 
About This Lesson: 
Dr. Richa Modi talks about issues related to women's health in India.
vocabulary (hindi): 

अनुभव

 

Experience

स्पेशलाईज़ेशन

 

Specialization

ओवर ऑल

 

Over all

वूमैन्स हैल्थ

 

Women’s health

चिर्ल्डन हैल्थ

 

Children Health

ढिंढोरे पीटे

 

To say something about all over the place

बदलाव

 

Change

ओ.पी.डी.

 

O.P.D.

ऑयरन

 

Iron

कैल्शियम

 

Calcium

गोली

 

Tablet

गौरमेंट सप्लाई

 

Government supply

इण्डियन वूमैन

 

Indian woman

वर्क अप

 

Work up

हरे पत्ते की सब्जियां

 

Green leafy vegetables

गुड़

 

Jaggery

बेसिक लेवल

 

Basic level

बॉडी

 

Body

डिलीवरी

 

Delivery

स्वास्थय

 

Health

प्रसव

 

Delivery/childbirth

संबंधित

 

Related

मोस्टली

 

Mostly

हैल्थ

 

Health

सीमित

 

Limited/restricted

लायक

 

worth

संभाल

 

Manage/handle

स्वास्थय

 

Health

जागरूकता

 

Awareness

साल भर

 

Year long

मुसीबत

 

Difficulty/ hindrances/problems

जिम्मेदार

 

Responsible

न्यूट्रीशियन

 

Nutrition

transcription (hindi): 

ये बतायें कि आपके इस पूरे अनुभव में, जब आप स्टूडेंट रही, फिर आपने स्पेशेलाइज़ेशन किया, आज आप यहां आ के प्रैक्टिस कर रही हैं... आपको एक जो पूरी, ओवरॉल, वूमेंस हेल्थ और चिल्ड्रेंस हेल्थ की जो इतने बड़े बड़े हम ढिंढोरे पीटे जाते हैं और जो ये बातें होती हैं... इसमें आपको क्या लगता है कि क्या बदलाव आने चाहिये या क्या हो रहा है?

एक चीज तो मुझे जो लगती है कि हम जैसे अपनी ओ.पी.डी. में आयरन कैल्शियम लिखते हैं... लेकिन मुझे लगता है कि वो कोई भी गोली चार रुपये पांच रुपये से कम नहीं होती... ठीक है, गौरमेंट सप्लाई भी होती है, लेकिन मुझे लगता है कि बहुत ज्यादा इस बात की जरूरत है कि इण्डियन वुमैन का जो खाना है, जो उसका मेन मील्स है, उसका जो फूड है... उस पे वर्क-अप होना चाहिये... मतलब कितनी चीजें ऐसी हैं जिसमें आयरन है, जो भी हरे पत्ते की सब्जियाँ होती हैं या गुड़ में आयरन कितना है... कितनी चीजें ऐसी होती हैं जो वो अगर रोज सुबह शाम घर पर खायें, तो उससे भी वो काफी अपना एक बेसिक लेवल का, कम से कम, जो बॉडी में, जितना जरूरी है, उतना उनका आयरन लेवल रहे... लेकिन आलरेडी उनका इतना कम होता है, फिर वो गोलियां नहीं लेतीं, तो, मतलब बच्चे, के डिलिवरी के वक़्त तक बहुत बुरी हालत हो जाती है उनकी... तो मुझे लगता है कि उनका in general जो स्वास्थ्य है, सिर्फ बच्चे या प्रसव से सम्बंधित नहीं, उसका, उनका in general जो स्वास्थय है, उसके बारे में भी प्रोग्राम्स होने चाहिये और वो जरूरी नहीं है कि बच्चा हो, तब से शुरू हो... वो एक early age में, क्योंकि शादियां भी जल्दी हो जाती हैं और मोस्ट्ली...

ना होने तक ही ये सीमित नहीं रहनी चाहिये... एक तो शादियां बहुत कम उम्र में हो जाती हैं... उस वक़्त उनका शरीर इस लायक नहीं होता कि वो एक दूसरी जान का भी, कहते हैं ना, भार सम्भाल सके... तो मुझे लगता है कि वो अच्छे से उनकी पढ़ाई पर ध्यान दिया जाये... उनको खुद पता होना चाहिये कि उन्हें क्या खाना है... अपने लिये क्या करना है... मुझे नहीं लगता कि गांव की किसी भी लड़की को ये पता हो कि उसे खुद क्या खाना चाहिये, उसको अपना स्वास्थ्य का ध्यान कैसे रखना चाहिये... तो इस चीज के लिये अवेयरनैस, जागरूकता, वो बिल्कुल भी नहीं है, कि उसको ये कह सके वो कि हां भई वो थोड़ा पढ़े, उसको अपने बारे में भी कुछ पता हो... वो एक सही समय पे शादी करे, जब शरीर और मन से उस चीज के लिये तैयार हो... फिर शादी के बाद वो एक सोच सके कि साल-भर बाद उसे बच्चा करना है... इन सब चीजों के बारे में कोई जानकारी ही नहीं है उन्हें... वो खुद सबसे ज्यादा मुसीबत में होती हैं लेकिन वो उस मुसीबत के लिये वो जिम्मेदार नहीं होतीं... उन्हें कुछ पता ही नहीं होता... उन्हें पता ही नहीं होता कब उनकी शादी हो गई... उन्हें पता ही नहीं होता कब बच्चा भी आ गया... पांच छः महीने का बच्चा होता है तब वो आती हैं... उस वक़्त हमारे पास समय कम होता है, उनको और उनके बच्चे को जितना भी जरूरी न्यूट्रिशियन है या जो भी चीजें हम दे सकें...

और यही हाल आगे भी होता है कि जब वो...

आगे भी जब वो ही होता है कि फिर बच्चा हो गया, फिर उन्हें ये नहीं समझ आता कि भई एक बच्चा हुआ है, अभी उनका शरीर उस चीज से recover करे... साल दो साल वो उस बच्चे को समय दे पायें, अपने आप को समय दे पायें, इससे पहले तो दो तीन महीने बीतते नहीं हैं, दूसरा बच्चा आ जाता है पेट में... तो...

exercise (hindi): 

1) वूमन्स हैल्थ और चिलर्डन हैल्थ की जागरूकता के लिये क्या करना चाहिये?

१) स्वास्थ्य के बारे में शुरू से जानकारी देनी चाहिये

२) बच्चे जब पैदा हों तब स्वास्थ्य के बारे में जानकारी देनी चाहिये

३) बच्चे के होने के बाद जानकारी देनी चाहिये

४) जब स्वास्थ्य खराब हो तब जानकारी देनी चाहिये

2) आयरन और कैलशियम की कमी को महिलाएँ कैसे दूर कर सकती हैं?

१) घर में जो चीज़ें होती हैं, उसी को खा कर

२) हरे पत्तों की सब्ज़ियाँ खा कर

३) गुड़ खा कर

४) सब

3) लड़कियों को अपने स्वास्थय के बारे में क्या समझने की ज़रूरत है?

१) उनको क्या खाना चाहिये

२) उसको अपने स्वास्थय का ध्यान रखना चाहिये

३) एक सही समय पर शादी करनी चाहिये

४) सब

4) लड़की की पढाई क्यों ज़रूरी है?

१) स्वास्थय का कैसे ध्यान रखें

२) अपनी शरीर के बारे में जानें

३) न्यूट्रीशन के बारे में

४) सब

5) डॉ० के अनुसार गाँव की लड़कियों को क्या मालूम होना चाहिये?

१) सही समय पर शादी करें

२) शादी के बाद कब बच्चा करना चाहिये

३) बच्चा होने के बाद दूसरा कब करना चाहिये

४) सब

vocabulary (urdu): 

Content under development

transcription (urdu): 

Content under development

exercise (urdu): 

Content under development