UT wordmark
College of Liberal Arts wordmark

South Asia Specific

Yoga Session

mediaURI: 
About This Lesson: 
A practical demonstration of a nice asana (posture) in yoga.
vocabulary (hindi): 

हथेलियां कमर की बगल में 

 

Palms next to your waist

गहरी सांस लेंगे

 

Take a deep breath

सांस छोड़ेंगे

 

Breathe out

सर्वांग आसन

 

Posture of yoga where all parts of the body gets benefit.

आसन

 

Posture

शरीर

 

Body

सभी अंगों को

 

All parts

पैरों को जोड़ लें

 

Join your legs

हथेलियां बगल में

 

Palms on the side

जमीन की तरफ

 

Towards the floor

पैरों को उठाना शुरू करें

 

Start raising your legs

90 डिग्री कोण पे

 

90 degree angle

पैर की उंगलियां

 

Fingers of legs

गहरी सांस लें

 

Take a deep breath

पूरे शरीर को देखने की कोशिश करें

 

Try to see the whole body

आंखें बंद रखेंगे

 

Will keep eyes closed

दाहिने पैर

 

Right leg

बाएं पैर

 

Left leg

दाहिने हाथ

 

Right hand

बाएं हाथ

 

Left hand

पेट

 

Stomach

छाती

 

Chest

खिंचाव

 

Stretch/tension

तनाव

 

Tension

पीड़ा

 

Pain

विशेष ध्यान

 

Special attention

सर्वांग आसन

 

Posture of yoga where all parts of the body gets benefit.

दोनों पैरों को जोड़ लें

 

Join the two legs

हथेलियां

 

Palms

कमर के बगल में

 

Near the waist

पैरों

 

Legs

पैरों को अपने हाथों को कमर पे लायेंगे

 

Bring legs and hands to the waist.

पूरे शरीर को ऊपर उठाने की कोशिश करेंगे

 

Will try to raise the body up

सर्वांग आसन

 

Posture of yoga where all parts of the body gets benefit.

आसन

 

Posture/stance

सभी अंगों को

 

All parts of the body

धीरे धीरे सांस छोड़ते हुये अपने पैरों को नीचे लायेंगे

 

Bring your legs down while releasing the breath slowly.

हथेलियां

 

Palms

गहरी सांसें

 

Deep Breaths

गहरी सांस अंदर, गहरी सांस बाहर

 

Breathe deep in, breathe deep out

चेतना

 

Conscious

हाथ

 

Hand

छाती

 

Chest

पेट

 

Stomach

शरीर

 

Body

खिंचाव

 

Stretch/strain

तनाव

 

Tension

चेतना

 

Conscious

खिंचाव

 

Stretch/strain

transcription (hindi): 

हथेलियां कमर के बगल में... और अब धीरे धीरे अपने पैरों को उठाने की कोशिश करेंगे... पहले 30 डिग्री, फिर 60 डिग्री, फिर 90 डिग्री... अपने हाथों को कमर पे लायेंगे और अपने पूरे शरीर को ऊपर उठाने की कोशिश करेंगे... इसको सर्वांग आसन इसलिये बोला जाता है क्योंकि इस आसन को करने से सभी अंगों को लाभ मिलता है... इसीलिये इसका नाम सर्वांग आसन है... अब धीरे धीरे सांस छोड़ते हुये अपने पैरों को नीचे लायेंगे... हथेलियां हवा की तरफ, आसमान की तरफ... दो गहरी सांसें लें...गहरी सांस अंदर, गहरी सांस बाहर गहरी सांस अंदर, गहरी सांस बाहर... अपनी चेतना को अपने दाहिने पैर में ले जायें, अपने बाएं, बाएं पैर में ले जायें... अपने दाहिने हाथ में ले जायें, अपने बाएं हाथ में ले जायें... अपनी छाती में ले जायें... अपने पेट में ले जायें... आपके शरीर में जहां आपको खिंचाव या तनाव महसूस हो रहा हो, वहां पे अपनी चेतना को ले जायें... आप देखेंगे कि अपनी, आपकी चेतना जब उस अंग पर पहुंचेगी तो आपका खिंचाव धीरे धीरे कम हो जायेगा... अपने पूरे शरीर को देखने की कोशिश करें... अपनी चेतना से अपने पूरे शरीर को देखने की कोशिश करें... गहरी सांस लें और छोड़ें...

exercise (hindi): 

1) सर्वांग आसन में पूरे शरीर को किस तरफ़ उठाना चाहिये?

१) दायीं तरफ़

२) बायीं तरफ़

३) ऊपर उठाना चाहिये

४) नीचे ले जाना चाहिये

2) इस आसन को सर्वांग आसन क्यों कहते हैं?

१) क्योंकि सब अंगों को लाभ मिलता है

२) पैरों को आराम मिलता है

३) कंधे को आराम मिलता है

३) पेट को आराम मिलता है

3) चेतना का विशेष अंग पर पहुँचने से क्या होता है?

१) अंग खुल जाता है

२) दर्द महसूस नहीं होता है

३) खिचांव कम हो जाता है

४) नींद आ जाती है

vocabulary (urdu): 

Content Under Development.

transcription (urdu): 

Content Under Development.

exercise (urdu): 

Content Under Development.