UT wordmark
College of Liberal Arts wordmark

Health Education - Classroom Session - 4

mediaURI: 
About This Lesson: 
How naturopathy should not shy away from availing help from modern technology.
vocabulary (hindi): 

प्राकृतिक चिकित्सा

 

Naturopathy

गर्भाशय

 

Womb

ट्यूमर

 

Tumor

डायगनोस

 

Diagnose

पैथोलॉजी.

 

Pathology

डायगनोसिस

 

Diagnosis

बीमारी

 

Illness

एक्स रे

 

X-Ray

पैथॉलॉजिस्ट

 

Pathologist

खून

 

Blood

यूरिन

 

Urine

पिशाब

पेशाब

Urine

जांच करा लें

 

Get tested

नैचुरोपैथ

 

Naturopath

शक्ल

 

Face

ट्यूमर

 

Tumor

अल्ट्रासाउंड

 

Ultrasound

गर्भाशय

 

Womb

परीक्षण

 

Examine

एग्ज़ामिन

 

Examine

कड़ापन की फीलिंग

 

Feeling of hardness

मुलायम

 

Soft

छोटे ट्यूमर

 

Small tumor

एमरजैंसी

 

Emergency

हार्ट-अटैक

 

Heart attack

transcription (hindi): 

प्राकृतिक चिकित्सा के विद्यार्थी होने के नाते हम जानना चाहते हैं कि गर्भाशय के अंदर जो ट्यूमर होता है तो उसको हम कैसे डायग्नोस कर सकते हैं?

देखिये, ऐसा है, आप किसी भी पैथी में जायें आपको डायग्नोसिस बनाने के लिये कोई भी आता है कि उसको क्या परेशानी है... तो आज के ज़माने में मैं नहीं समझती कि ये गलत है कि आप किसी एक्स-रे वाले से एक्स रे करवा लें, कि आपको पता चल जाये... या किसी पैथॉलॉजिस्ट से खून की या यूरिन की, पिशाब की जाँच करा लें, क्योंकि हर पैथी की अपनी कुछ न कुछ खासियत हैं... तो चाहें... ये नहीं सोचना चाहिये कि हम नैचुरोपैथ हैं तो शक्ल देखकर ही सब बता देंगे... ऐसा नहीं हो सकता है... तो, ये जो आपने पूछा है अभी, कि ट्यूमर को हम कैसे जान सकते हैं, तो आजकल अल्ट्रासाउंड आ गया है... उसकी सहायता से हम बहुत आसानी से पता लगा सकते हैं कि हां, इस औरत को गर्भाशय में ट्यूमर है कि नहीं है और है तो कहां है... उसके पहले हम लोग परीक्षण भी करते हैं... ऐसा नहीं है कि सीधे हम अल्ट्रासाउंड के पास भेज देंगे... हम पहले उसको एग्ज़ामिन करते हैं, उसका नीचे से परीक्षण करते हैं, देख लेते हैं... अगर हमको उसका गर्भाशय जरूरत से ज्यादा बड़ा लगता है या हमको एक कड़ापन की फ़ीलिंग आती है जो कि बहुत ही मुलायम सा गर्भाशय फील होता है, महसूस होता है, तो फिर हम उसको अल्ट्रासाउंड वाले के पास भेजते हैं, जिससे कि, जो हम सोच रहे हैं, वो उसमें आ जाता है तो वो जो है, वो कन्फर्म हो जाता है... कभी कभी छोटे ट्यूमर आप सिर्फ देख करके नहीं बता पाते हैं पर अल्ट्रासाउंड होते ही जो है, आपको एकदम सही पता चल जाता है... और ये सहायता लेने में मेरे हिसाब से कोई गलती नहीं है... कभी ऐसे मत सोचिये कि हम नैचुरोपैथ हैं, जहां की जिसकी जो अच्छाई है वो लेना चाहिये... आज एमर्जेंसी पड़ जाये, हार्ट-अटैक हो जाये तो नैचुरोपैथी थोड़े ही काम करेगी... अपनी जान आपको पहले बचानी है या, रोगी की, तो आपको बहुत ईमानदारी से उसको सही राय देना चाहिये कि नहीं...

exercise (hindi): 

1. प्राकृतिक चिकित्सा में गर्भाशय में ट्यूमर का कैसे पता लगाया जा सकता है?

१. अल्ट्रासाउंड से

२. एक्स रे से

३. खून की या पेशाब की जांच से

४. सब

2. अगर मरीज़ की जान जा रही हो तो नैचुरोपैथी में क्या ऐलोपैथी का सहारा लेना चाहिये?

१. कभी-कभी लेना चाहिये

२. नहीं लेना चाहिये

३. जो अच्छा है, उसका सहारा लेना चाहिये

४. बिल्कुल नहीं लेना चाहिये

vocabulary (urdu): 

content under development

transcription (urdu): 

content under development

exercise (urdu): 

content under development