UT wordmark
College of Liberal Arts wordmark

Dr. Richa Modi 04 - Public Health

mediaURI: 
About This Lesson: 
Dr. Richa Modi talks about the need for health awareness and government generated services in rural areas.
vocabulary (hindi): 

अमूमन

 

Generally

सफलता

 

Success

किस हद तक

 

To what limits

दुर्घटना

 

Accident

अनअपेक्षित

 

Not required or desired/unwanted

जागरूकता

 

Awareness

ट्रांस्पोर्टेशन

 

Transportation

दिक्कत

 

Difficulty

रात बेरात

 

Without any concept of time

पल पल

 

Every moment

नष्ट

 

Destroyed/perished

एम्बुलैंसिज़

 

Ambulances

पैरीफेरी

 

Periphery

ट्रांस्पोर्टेशन

 

Transportation

गौरमेंट

 

Government

स्कीम्स

 

Schemes

पेशैंट

 

Patient

transcription (hindi): 

ये बतायें कि आपके पास, मैं एक, अमूमन, मैं मोटी मोटी बात अगर करूं, तो एक हफ़्ते में आपके पास किस तरह के कितने केसिज़ आते हैं और उसमें सफलता आपको कितने, किन किन, किस हद तक मिल पाती है?

एक हफ़्ते में, कभी कभी ऐसा होता है कि एक हफ़्ते में चार केस ऐसे आ गये... कई बार ऐसा होता है कि एक ही केस ऐसा आया... लेकिन तीन चार केस हफ़्ते में ऐसे आ जाते हैं जिसमें कि, मतलब, मां के साथ, या बच्चे के साथ कोई, मतलब बड़ी दुर्घटना कह लीजिये या अनपेक्षित चीज कह लीजिये, हो गई हो... और उसमें अगर हमारा कितना सफलता, तो चार में से तीन हम कहेंगे कि 60-70 प्रतिशत तो हमारी है सफलता...

सफलता है 60-70 प्रतिशत...

जो पेशैंट हमारे पास पहुंच जाता है, जिंदा हालत में, तो उसका हम मतलब चार में से तीन को तो बचा ही लेते हैं...

तो ये तो बहुत एक, बहुत बड़ी मात्रा में, सरकार की, मेरे हिसाब से, जैसे, जैसा आप बता रही हैं, पूरे प्रोग्राम में एक बहुत बड़ी चूक है कि आज की तारीख में, जहां पर ये जागरूकता फैलनी चाहिये, वहां हम मां को और बच्चों को खो रहे हैं?

बिल्कुल...

ये... तो यहां...

और मुझे ऐसा लगता है, कि जो सबसे बड़ी चीज मैंने महसूस की, जो कमी है, वो है प्रॉपर ट्रांस्पोर्टेशन नहीं है... मतलब पेशैंट दूर से आता है... आने आने में, पहली बात तो पेशैंट तभी आने की सोचता है कि जब उसे लगे कि बड़ी दिक्कत है... और उसके बाद वो घंटे, दो घंटे, तीन घंटे, रात-बेरात और समय लग जाये, उस वक़्त हमारे लिए पल-पल कीमती होता है... और वो घंटे नष्ट हो जाते हैं पेशैंट के पहुंचने में... तो मुझे लगता है कि गौरमैंट को सबसे ज्यादा इस चीज पर ध्यान देना चाहिये... जैसे गुजरात में मैंने ये चीज देखी कि वहां पर जो एम्बुलेंसेज़ हैं, आप फोन कीजिये पंद्रह मिनट में एम्बुलैंस आपके घर के दरवाज़े पर होगी...

गांव में?

गांव कह सकते हैं, वो पैरीफरी तो कह सकती हूं... Exactly तो यहां पेरिफ़ेरी या गांव में बहुत ज्यादा नहीं बता पाऊंगी कि वहां पर कितने किलो मीटर की रेंज थी और यहां नहीं है... लेकिन मुझे लगता है कि थोड़ा ट्रांस्पोर्टेशन पर ध्यान देना चाहिये गौरमेंट को, कि पेशैंट को तकलीफ हो तो पहुंचने के लिये, जो nearest center है, वहां पर जैसे आशा करके हम, एक लेडी होती है, that is called Accredited Social Health Assistant, जो कि पेशैंट को हमारे पास लेकर आती है... तो ऐसा नहीं है गौरमेंट  कुछ नहीं कर रही है... बहुत सारी स्कीम्स हैं... और आशा स्कीम में ऐसा होता है कि जो आदमी आशा बनकर उस पेशेंट को हमारे पास लेकर आता है, उसको पैसा भी मिलता है... क्यूंकि पैसा सबसे बड़ा incentive है एक आदमी के काम करने का... तो ये समझ लीजिये गौरमेंट कुछ नहीं करती तो जो चार में से तीन बच रहे हैं वो भी नहीं बचते ना... क्योंकि उनको भी कोई ना कोई लेकर ही आ रहा है ना... चार में से कोई एक अपने आप से आ रहा है, दो को कोई ना कोई लेकर ही आ रहा है... तो ऐसा नहीं है काम नहीं हो रहा है... लेकिन इससे अच्छा काम हो सकता था... और ध्यान देने की जरूरत है...

exercise (hindi): 

1) डॉक्टर के पास हफ़्ते में कितने गम्भीर केसिस आते हैं?

१) एक या दो

२) पाँच या छ:

३) दस या ग्यारह

४) तीन या चार

1)2) डॉक्टर मोदी को सीरियस केसिस में कितनी सफ़लता मिलती है?

१) ६० से ७० प्रतिशत

२) १० से २० प्रतिशत

३) ९९ प्रतिशत

४) ५० प्रतिशत

1)3) डॉक्टर मोदी के अनुसार किस वजह से माँ और बच्चे को पूरी सुविधा नहीं मिल पाती है?

१) एम्बुलैंस की सुविधा नहीं मिल पाती है

२) अस्पताल दूर होता है

३) प्रापर ट्रांसपोर्टेशन की सुविधा नहीं है

४) ऊपर दी गई सब वजह से

vocabulary (urdu): 

Content under development

transcription (urdu): 
Content under development
exercise (urdu): 

Content under development