UT wordmark
College of Liberal Arts wordmark

Dr. Vineeta Modi - Health Education - On Proper Health Check-up During Pregnancy

mediaURI: 
About This Lesson: 
Dr. Modi describes the differences in rural and urban health consciousness during pregnancy.
vocabulary (hindi): 

दांत

 

Tooth

चोट लग जायेगी

 

Will get hurt

लोढा

 

Pounder/ muller

चटनी पीसते हैं

 

Grind chutney

पत्थर का

 

Of stone

छींका

 

Sling/muzzle

पेट में बच्चा आता है

 

When the baby comes in the stomach or fetus is formed

अस्पतालों में

 

In hospital

फॉलिक एसिड

 

Folic acid

नर्वस सिस्टम

 

Nervous system

ब्रेन

 

Brain

डवलपमेंट

 

Development

स्पाईनल कॉड

 

Spinal cord

ब्रेन बाहर लटक रहा है

 

Brain is hanging outside

स्पाईनल कॉड के ऊपर स्किन नहीं बनी

 

Membrane does not cover the spinal cord

स्पाईनल कॉड दो में विभाजित है

 

Spinal cord is split in two

स्पाईना बाफिडा

 

Spina bifida

लाईफ एक्सपैक्टैनसी

 

Life expectancy

जीवित रखने का कोई अर्थ नहीं

 

Terminally ill

मैंटली रिटार्डिड

 

Mentally  retarted

फिज़ीकली हैंडीकैप

 

Physically handicapped

पेट में बच्चा है

 

Baby is in the womb

प्रैगनेंट

 

Pregnant

टीका करवाये

टीका लगवाए

Get Vaccinated

टिटनेस

 

Tetanus

टीके

 

Vaccine

फॉलिक एसिड

 

Folic acid

कैल्शियम

 

Calcium

पैरासाईट

 

Parasite

हड्डियां बन सकें

 

So that bones can form

हड्डियां

 

Bones

बच्चे को पालते हुये

 

While raising the child

आर्गन्स

 

Organs

शरीर

 

Body

पाचन तंत्र

 

Digestive system

हार्ट

 

Heart

ब्लड रैग्यूलेशन

 

Blood regulation

टीका

 

Vaccine

टिटनेस

 

Tetanus

दाईयां

दाइयाँ

Midwife/ Nurse

डिलीवरी

 

Delivery

तापमान

 

Temperature

स्टीम

 

Steam

प्रेशर

 

Pressure

प्रैशर बनने से स्टीम बनती है

 

Steam is made when pressure builds up

स्टीम के एक दबाव से

 

Pressure of steam

गल जाता है

 

Rot/melt/cook till it softens

रूई

 

Cotton

बीमारी

 

Illness

खून

 

Blood

संपर्क

 

In contact with

पैदा होते समय

 

Time when it was being born

ईलाज

इलाज

Treatment

सूई

सुई

Injection

transcription (hindi): 

विनीता, ये तो आपने बताया कि अगर ये एक क्षेत्र है, बच्चा छोटा है, बच्चा थोड़ा बड़ा है, या थोड़ा उससे ज्यादा बड़ा है... इस क्षेत्र में ये ये चीजें होनी चाहिये... क्या हो रहा है, अगर हम उस मुद्दे पर आयें भारत वर्ष में, ग्रामीण क्षेत्रों में, शहरों में भी, तो क्या आपको लगता है कि जो हो रहा है ठीक हो रहा है या इसमें बदलाव आना चाहिये?

अब इसके लिये फिर मैं आपको फिर दो में विभाजित करूंगी... एक थोड़ा गांव के लोग और एक थोड़ा शहर के लोग... हमें दोनों तरफ हर चीज की एक्सट्रीम दिखती है, एकदम असीमता दिखती है... गांव में क्या है... आप उन्हें समझाना चाहिये वो समझना नहीं चाहते... जैसे कि अगर बच्चा पैदा हुआ है और उसके दो दांत हैं तो सास आयेगी एक लकड़ी लेकर के कि इसको तोड़ दो, ये भूत जैसा कुछ है... ये एक आपको दिख गया...

जी... हुआ है ये?

ये हुआ है... ये हम लोगों को बहुत समझाना पड़ा है कि आप ऐसा मत करिये, बच्चे को चोट लग जायेगी... वो लोढ़ा होता है, जिससे चटनी पीसते हैं, पत्थर का, उससे लोग आते हैं तोड़ने के लिये... कि ये कुछ भूत जैसा है इसे निकाल दो... और उसके अगेन्सट अगर हम अपने शहर के लोगों को देखें तो वो हर चीज में बहुत ज्यादा over conscious हैं... डॉक्टर, मेरा बच्चा दो बार छींका... डॉक्टर मेरा बच्चा तो एक ही बार छींका... उसका बच्चा तो दस बार छींका... तो क्या मेरे बच्चे को कम है, उसके बच्चे को ज्यादा है... तो हम इसे कहते हैं कि ओवर अवेयरनैस...आप हद से ज्यादा अपने बच्चे के लिये परेशान हैं... तो एक समानता होनी चाहिये... गांव में, जैसे कि, जब मां के पेट में बच्चा आता है, जिसे हम प्रैगनैंसी कहते हैं, वो अस्पतालों में नहीं आती हैं दिखाने... तो जो पहले तीन महीने में हम मां को दवा देते हैं, जिसे हम कहते हैं फॉलिक एसिड, वो सबसे ज्यादा जरूरी होता है बच्चे के नर्वस सिस्टम के लिये, ब्रेन के डवलपमेंट के लिये, स्पाईनल कॉर्ड के डवलपमेंट के लिये... जो मांयें नहीं खाती हैं, तो हमें गांव में ये केसिज़ ज्यादा देखने को मिलते हैं कि जिसका सर की हड्डी नहीं बनी, ब्रेन बाहर लटक रहा है या स्पाईनल कॉर्ड के ऊपर स्किन नहीं बनी... या स्पाईनल कॉर्ड दो में विभाजित है, जिसको हम स्पाईना बाफिडा कहते हैं... तो उन बच्चों की कोई लाईफ एक्सपैक्टैनसी नहीं है... वो मतलब उनको फिर जीवित रखने का कोई अर्थ नहीं हैं क्योंकि वो बच्चे मैंटली रिटार्डिड होंगे, फिज़ीकली हैंडीकैप होंगे... जिन्हें हम बचा सकते हैं...अगर मां को पता चलते ही कि उसके पेट में बच्चा है या वो प्रैगनेंट है, वो अपने बगल के अस्पताल में जाये, अपना टीका करवाये, जो टिटनेस के दो टीके लगते हैं...फॉलिक एसिड, कैल्शियम, जो हम उसे देते हैं प्रैगनैंसी के नौ महीने के दौरान... जो उसके लिये भी जरूरी है और उसके बच्चे के लिये भी क्योंकि वो अकेले को नहीं पाल रही है, वो अपने अंदर एक शिशु को पाल रही है...

जैसे हम शिशु का indirectly कहते हैं कि वो पैरासाईट है मां के ऊपर क्योंकि जो मां खा रही है उससे ही शिशु ले रहा है... तो आपको उसको कैलशियम भी देना है ताकि बच्चे की हड्डियां बन सकें और मां की हड्डियां कमजोर ना हों एक बच्चे को पालते हुये... फॉलिक एसिड, जो कि सिर्फ बच्चे के लिये है... बच्चे की हर तरह की ग्रोथ के लिये है... अगर आपका नर्वस सिस्टम बनेगा तो आपके और बाकी आर्गन्स बनेंगे क्योंकि नर्वस सिस्टम सबसे बड़ा है... हर चीज के, हर चीज को कंट्रोल को देखने के लिये... अगर हमारा नर्वस सिस्टम ठीक नहीं होगा, तो हमारे शरीर में अन्य कोई भी सिस्टम, चाहे वो पाचन तंत्र हो, चाहें वो हार्ट का ब्लड रैग्यूलेशन हो, कोई भी ठीक से नहीं चलेंगे... तो उसका हमें ध्यान देना है... उसके लिये, और जो ये टीका, टिटनेस का टीका नहीं करते हैं, तो गांव में क्या होता है कि दायां डिलिवरी करवाती हैं... वो अस्पताल तक तो आते नहीं हैं... ना वो instruments या जिस पद्धति से वो डिलीवरी कराते हैं, वो उसे sterilized नहीं करते... sterilized मतलब कि हम उसे एक, कुछ तापमान तक उबालते हैं और कुछ स्टीम, प्रेशर के अंदर उसे रख देते हैं ताकि वो sterilized हो सके... जैसे कि घर में हमारे प्रैशर कुकर होते हैं...प्रैशर बनने से स्टीम बनती है, जो अंदर का खाना होता है वो गल जाता है... इसी तरह हम अस्पतालों में अपने instruments या जो रूई होती है या जो भी हम इस्तेमाल करते हैं उसे हम sterilized करते हैं... लेकिन जब गांव में दायां डिलिवरी करवाती हैं तो वो ऐसा कुछ भी नहीं करती हैं... इसलिये मां को दो टिटनेस के इंजैक्शन लगवाना जरूरी है कि अगर वो instruments sterilized ना हों, तो मां को टिटनेस की बीमारी ना हो...

बच्चे को भी होगी?

बच्चे को भी होगी... तो बच्चे को भी होगी जब बच्चा पैदा होते समय बच्चे, बच्चे, मां का खून से मिलेगा या उसका संपर्क होगा मां के खून से, पैदा होते समय, तो बच्चे को हो सकती है... तो मेनली दोनों को बचाने के लिये क्योंकि टिटनेस का लाज हमारे पास भारत वर्ष में क्या अभी कहीं दुनिया में कहीं नहीं है... इसलिये हमें उसे बचाना चाहिये... टिटनेस अगर एक लेवल तक पहुंच गया तो उसका कोई लाज नहीं है हमारे भारत में... तो इसलिये टिटनेस से बचाने के लिये हम टिटनेस देते हैं... तो गांव में लोग लेना नहीं चाहते... वो नहीं लेते...

अभी भी यही हाल है?

अभी भी यही हाल है... आप उन्हें कहते रहिये कि हर महीने आना है तो उन्हें लगता है कि डॉक्टर पैसा खाने के लिये बुला रहे हैं या हमें जबर्दस्ती दो सूई लगवा रहे हैं...

exercise (hindi): 

1) गाँव में ज़्यादातर जब माँ के पेट में बच्चा होता है तो वह कितनी बार दवाखाने दिखाने जाती है?

१) बस एक बार

२) बिल्कुल भी नहीं

३) तीन महीने में एक बार

४) छ: महीने में एक बार

2) पहले तीन महीने में कौन सी दवा ज़रूरी होती है?

१) टायलनोल

२) पैपसिड

३) फ़ॉलिक एसिड

४) एनासिन

3) फ़ॉलिक एसिड बच्चों के लिये क्यों ज़रूरी होती है?

१) बच्चे के नर्वस सिस्टम के लिये

२) ब्रेन के डवलपमैंट के लिये

३) स्पाइनल कॉड के डवलपमैंट के लिये

४) सब

4) जो माँ फ़ॉलिक एसिड नहीं लेती तो बच्चे को क्या हो सकता है?

१) सर की हड्डी नहीं बन पाए

२) ब्रेन बाहर लटक जाए

३) स्पाइनल कॉर्ड के ऊपर स्किन नहीं बन पाए

४) सब

5) बच्चे जब पैदा हों और मैंटली रिटार्टिड या फ़िज़ीकली हैंडिकैप न हों तो माँ को किन बातों का ध्यान रखना चाहिये?

१) अस्पताल जाएँ

२) टीका लगवाएँ

३) टेटनेस के दो टीके लगवाएँ

४) सब

6) बच्चे जब पेट में होता है तो कहते हैं कि “बच्चा माँ के ऊपर एक पैरासाइट है” ऐसा क्यों कहते हैं?

१) जो माँ खाती है वो ही बच्चा खाता है

२) जब माँ कैल्शियम लेती है तो बच्चे की हड्डियाँ बनती हैं

३) माँ जब फ़ॉलिक एसिड लेती है तो बच्चे का नरवस सिस्टम बनता है

४) सब

7) गाँव में दाइयाँ क्या instruments sterilize करती हैं?

१) हाँ

२) हर बार करती हैं

३) शायद

४) बिल्कुल नहीं

8) टेटनस का टीका क्यों ज़रूरी है?

१) क्योंकि गाँव में दाई डिलीवरी के समय जो भी इस्तेमाल करती हैं, वो स्टरलाइज़ नहीं करती हैं

२) क्योंकि और बीमारी से माँ बची रहे

३) माँ की सेहत के लिये

४) माँ का और ध्यान रखने के लिये

9) गाँव में लोग टेटनेस क्यों नहीं लगवाते हैं?

१) उन्हें लगता है कि डा० पैसा खाने के लिये बुलाते हैं

२) डॉ० ज़बरदस्ती दो सुई लगवा देंगे

३) लोग लेना नहीं चाहते हैं

४) सब

vocabulary (urdu): 

Content Under Development.

transcription (urdu): 

Content Under Development.

exercise (urdu): 

Content Under Development.