UT wordmark
College of Liberal Arts wordmark

Hygiene

Dr. Smita Modi - Hygiene

mediaURI: 
About This Lesson: 
Dr. Smita Modi talks about the medical issue pertinent to rural as well as urban areas.
vocabulary (hindi): 

प्राकृतिक चिकित्सा

 

Naturopathy

कार्यक्षेत्र

 

The area of work

ठोस

 

Solid

जागरूकता

 

Awareness

सफाई

 

Cleanliness

व्यायाम

 

Exercise

अंकुरित वगैरह

 

Sprouted etc.

चोकर समेत आटे की रोटी

 

Bran of wheat with flour

मासाहारी

 

Non-vegetarian

शाकाहारी

 

Vegetarian

वातावरण

 

Environment

पॉल्यूशन

 

Pollution

जागरूकता

 

Awareness

मैडिकल कॉलेज

 

Medical college

रोगी

 

Patient

नाखून

 

Nails

बाल

 

Hair

मासिक

 

Periods/menstrual cycle

सफाई

 

cleaning

शारीरिक श्रम

 

Hard work by body

गर्भवती

 

Pregnant

टीका

 

Vaccination

आशा

 

Hope

मिड वाईफ

 

Mid-wife

आयरन

 

Iron

कैल्शियम

 

Calcium

गोलियां

 

Tablets

प्रैगनेंसी

 

Pregnancy

सूजन

 

Swelling

जागरूकता

 

Awareness

संतोषजनक

 

Satisfactory

सास बहू तालमेल

 

Getting along of daughter in law with mother in law

सास का चिंतन मनन बहू के साथ कैसा है

 

What does mother in law think of daughter in law

गर्भवती

 

Pregnant

काउंसलिंग

 

Councelling

बीमारी

 

Illness

transcription (hindi): 

एक अब मैं आपसे थोड़ा बड़े दायरे का सवाल करना चाहूंगा... कि आपके अनुसार, एक डॉक्टर होने के अनुसार, और जिसने इस क्षेत्र में काफी लंबे समय तक काम किया है... आप विभिन्न प्रकार की चीजें भी आप कर रही हैं... आप प्राकृतिक चिकित्सा को भी एक अपना कार्यक्षेत्र मानती हैं... तो womens’ health का जो एक क्षेत्र अगर हम लेते हैं तो, भारत में, आपको लगता है क्या कोई बदलाव आया है? कोई ठोस परिवर्तन इसमें आपको नज़र आता है इसमें?

हां, बिल्कुल आया है... पहले की अपेक्षा लोगों में जागरूकता आई है... सफाई के प्रति जागरूकता आई है और खान पान के प्रति जागरूकता आई है... व्यायाम के प्रति जागरूकता आई है... और, जैसे पानी साफ पीना चाहिये... भोजन में अंकुरित वगैरह खाये... चोकर समेत आटे की रोटी खाये... घी तेल कम खाये... लोग जो हैं, मेरे खयाल से, कुछ परिवर्तन तो आया है कि माँसाहारी से, जो हम लोग तो चाहते हैं कि शाकाहारी भी बनिये ताकि आपको पाचन सही रहे... ये परिवर्तन आया है... लोग अपने बच्चों का भी अच्छे से देखभाल करने लगे हैं... पहले जहां भी चाहा बच्चे को लिटा दिया, जो भी चाहा खिला दिया... अब माँओं को ये सिखाया जाता है कि भई हाथ धोकर खिलाओ... बच्चे को भी, ऐसा ना हो कि बच्चे को भी, धूल मिट्टी में ही पड़ा रहे... क्योंकि आजकल ये भी देखा गया है कि सभी का, शरीर की resistance जो है वो, क्षमता जो है, वो definitely थोड़ा infection prone जल्दी, या तो वातावरण की वजह से, पॉल्यूशन की वजह से जो है, जो हम लोग इसको देख रहे हैं... तो उससे बचने के लिये...

तो फिर उसी मुद्दे पर मैं आपसे प्रश्न पूछना चाहूंगा,women’s health के मुद्दे पे, शहर में तो जागरूकता नज़र आती है... क्या यही जागरूकता आपको गांवों में भी नज़र आती है?

पहले से बेहतर तो हुई है क्योंकि जब हम लोग मैडिकल कॉलेज में पढ़ते थे, उस समय तो, मैडिकल कॉलेज में तो गांव के ही ज्यादा रोगी आते थे और मेरे पास यहां भी आते हैं... तो एक बदलाव तो दिखता ही है कि वो भी अपने प्रति, कि नाखून उनके कटे हुये हों, बाल उनके बने हुये हों, नहाये हों, साफ कपड़े पहन रहे हों, मासिक में भी सफाई का ध्यान रखते हों... ये तो हम लोगों, ये तो हम औरतों में भी देख रहे हैं... और थोड़ा बहुत कि, कहेंगे कि देखिये बहन जी हम आज सबेरे शाम थोड़ा चल तो लेते ही हैं, जैसे भी समय निकाल करके... हालांकि गांव में नहीं हो पाता है... या हम, जैसे खेत तक जाते हैं... तो इस तरह से कुछ शारीरिक श्रम भी वो लोग कर रहे हैं... अगर वो गर्भवती हैं तो भी वो लोग ध्यान रखती हैं कि भई जो टीका लगता है वो लगा कि नहीं... क्योंकि सरकार भी इसमें काफी मदद कर रही है... ये 'आशा', 'मिड वाईफ', ये लोग जो हैं घर घर जाकर के टीका लगाती हैं, आयरन कैल्शियम की गोलियां देती हैं... तो उनको थोड़ा तो ज्ञान है कि भई अगर किसी को प्रैगनेंसी है तो ये करना चाहिये... सूजन शरीर में आ गई है तो क्यों आ रही है... खून की कमी... थोड़ा तो जागरूकता आई है... अब, माने, एकदम हम लोगों के लिये संतोषजनक हो, ऐसा भी नहीं है, पर है... पहले से है...

ये जो क्षेत्र आपका है, यहां पर सास बहू तालमेल और सास का चिंतन-मनन बहू के साथ कैसा है... उसमें बहुत एक, एक critical point हो जाता है कि अगर बहू की देखभाल नहीं हो रही तो... तो ये मुद्दे शहरों में भी नजर आते हैं या सिर्फ गांवों में ही हैं...

नहीं ये सब जगह नजर आते हैं... और एक डॉक्टर के नाते हम लोगों को बहुत ही confidential रखना पड़ता है, छुपा के रखना पड़ता है... कभी-कभी ऐसा होता है कि बहू पहले आ जायेगी और कहेगी कि देखिये हमारी सास हमसे जरूरत से ज्यादा काम करा रही है... या खाने को नहीं दे रही है... या देर रात तक जगाती है ठंड में भी... और जबकि मैं गर्भवती हूं... तो जरा आप मेरे सास को समझा दीजियेगा... तो वो ठीक से करेगी... तो ये होता है... कहीं पे सास आती है, बहुत आलसी है... ये तो इतना नखरा कर रही है कि क्या है... थोड़ा सा आप इसकी काउंसलिंग कर दीजिये, इसको समझा दीजिये, कि देखो भई, गर्भ जो है कोई बीमारी नहीं है... तो जितना तुम काम कर सकती हो, थकाना भी नहीं है, ये भी नही कहेंगे, पर करो... तो as a doctor, एक डॉक्टर के रूप में हमें सबकी बातों को लेते हुये, और सबको confidence में लेते हुये संभाल के चलना पड़ता है कि न सास नाराज हो न बहू नाराज हो और न हसबैंड नाराज हो... क्योंकि हमें सबको ले के चलना है...

exercise (hindi): 

1) लोग अब पहले की अपेक्षा किस बात पर ज़्यादा ध्यान देते हैं?

१) सफ़ाई के प्रति

२) व्यायाम के प्रति

३) भोजन के प्रति

४) सब

2) भोजन खाने में किस प्रकार की जागरूकता आई है?


१) भोजन में अंकुरित खाना होना चाहिये

२) घी, तेल का इस्तेमाल कम करना चाहिये

३) कुछ लोग मांसाहारी से शाकाहारी बनने लगे हैं

४) सब

3) पॉल्यूशन से बच्चों को कैसे बचाना चाहिये?


१) बच्चों को हाथ धो कर खाना खिलाना चाहिये

२) बच्चों को धूल मिट्टी से बचाना चाहिये

३) बच्चों को रोज़ नहलाना चाहिये

४) सब

4) गाँव की महिलाओं में अपनी सेहत के बारे में क्या जागरूकता आई है?


१) नाखून काटती हैं

२) बाल बनाती हैं

३) साफ़ कपड़े पहनती हैं

४) सब करती हैं

5) औरत अगर गर्भ से हो तो उसे क्या करना चाहिये


१) टीका लगवाना चाहिये

२) आयरन, कैल्शियम की गोली लेनी चाहिये

३) थोड़ा चलना चाहिये

४) सब करना चाहिये

6) सास से बहुओं को क्या शिकायत रहती है?


१) ज़रूरत से ज़्यादा काम कराती हैं

२) खाने को ठीक से नहीं देती

३) ठंड में देर रात तक जगाती हैं

४) सब

7) डॉ० मोदी इस समस्या को कैसे हल करती हैं?


१) सास का साथ देती हैं

२) बहू का साथ देती हैं

३) हस्बैंड का साथ देती हैं

४) संभल के चलती हैं जिससे कि न सास नाराज़ हो, न बहू, न ही पति

vocabulary (urdu): 

Content Under Development.

transcription (urdu): 

Content Under Development.

exercise (urdu): 

Content Under Development.

Dr. Vimal K. Modi - 06: Naturopathy, Hygiene

mediaURI: 
About This Lesson: 
Dr. Modi explains about hygiene and the fundamentals of staying healthy.
vocabulary (hindi): 

पर्सनल हाईजीन 

 

Personal hygiene

बदन को रगड़ा जाये

 

Rub the body

शरीर गरम हो जायेगा

 

The Body will become warm

त्वचा के रोम कूप खुल जायेंगे

 

Pores of the skin will open up

गंदगी

 

Filth

दांतों के विकार

 

Dental abnormalities

कुल्ला कीजिये

 

Rinse the mouth

मसूड़ों की मालिश

मसूढ़ों की मालिश

Rubbing the gums

अभ्यास

 

Practice

दांत में ठंडक लग रही थी

 

Teeth are sensitive to cold things

सरसों के तेल

 

Mustard oil

transcription (hindi): 

ये आपने अच्छा कहा कि असंभव कुछ नहीं है आपकी जो भाषा में जो है और आप जो, जिस तरह का कार्य कर रहे हैं... मैं अलग-अलग किस्म के चार टॉपिक्स पे आपसे बात करना चाह रहा हूं कि हाईजीन की जब हम बात करते हैं... एक बहुत बड़ा कारण रोगों का होना, कि अगर आपकी पर्सनल हाईजीन ठीक नहीं है तो उसकी वजह से आपके, रोग आपकी तरफ आकर्षित होते हैं... तो क्या यहां वो सब भी सिखाया जाता है कि किस तरह से आपका एक रूटीन रहे... आप अपने आपको किस तरह स्वस्थ रखें, बेसिक हाईजीन को ले के?

हाईजीन के बिना तो व्यक्ति स्वस्थ हो ही नहीं सकता... हाईजीन कम होगा तो वो रोगों की तरफ जाता ही रहेगा... तो निश्चित रूप से सुबह उठना चाहिये, दाँतों को साफ़ करना चाहिए, नहाना चाहिए, नहाने की भी विधि भी बताई जाती है कि पहले अच्छी तरह से बदन को रगड़ा जाए, रगड़ने से शरीर गरम हो जाएगा, उसके बाद नहाया जाये और नहाने के बाद भी अगर हम रगड़कर उसको सुखा लेते हैं तो हमारी त्वचा के रोम-कूप खुल जाएँगे और स्वस्थ हो जायेंगे... वो स्वस्थ हो जायेंगे तो शरीर की गंदगी जो रोम-कूप से निकलती है वो निकलेगी और व्यक्ति स्वस्थ रहेगा... ये बहुत साधारण सी बात है कि हम हर, हर, जहां जो भोजन मिलता है वो खा लेते हैं... हाथ धोने की बात भी नहीं सोचते... और सारा काम हम हाथ से करते हैं... हाथ तो हमें हर बार साबुन से धोकर ही खाना चाहिये... ब्रश हम सुबह करते हैं, रात को करते हैं... लेकिन हमारे हिन्दुस्तान में, या व्यक्तियों को देखा जाये तो वो एक ही बार ब्रश करना पसंद करते हैं... लेकिन मैं तो ये कहता हूं कि आप सुबह ब्रश करें, शाम को ब्रश करें, अगर आप दोनों बार ब्रश करें तो दांतें स्वस्थ रहेंगे... और दाँतों के विकार से पचास प्रतिशत रोग होते... उन पचास प्रतिशत से बचने के लिये तो केवल दांत को साफ करना है... तो अगर आपने कसम खा रखी है कि मुझे एक ही बार दांत को साफ करना है, तो मैं तो आपको ये राय दूंगा कि रात को ब्रश करके सो जाइये...क्योंकि तब तो बारह घंटे दांत साफ रहेंगे... सुबह तो आप ब्रश करते हैं, तुरंत खा लेते हैं, दांत फिर गंदा हो जाता है... रात को ब्रश करके सोइये... और आठ घंटे दांत साफ रहेंगे और हर बार भोजन के बाद अच्छी तरह कुल्ला कीजिए... कर सकते हैं तो करिये... लेकिन एक बात तो मेरी मान ही लीजिये कि ब्रश दो बार कीजिये, अगर एक बार करना है तो रात को कर के सोइये... इस समय टूथ पेस्ट के बहुत से विज्ञापन आप देख रहे होंगे कि नमक है... मैं तो ये कहूंगा कि उस नमक के झगड़े में मत पड़िये... जिससे भी दांत साफ करना हो करिये, हफ्ते में एक बार या दो बार, अच्छी तरह नमक को खूब बारीक पीस लीजिए, उसमें सरसों का तेल मिला लीजिये और उससे ब्रश करने के बाद मसूढ़ों की मालिश कर लीजिये... देखिये आपके दांत कितने स्वस्थ रहेंगे...

तो ये सब भी आप यहां सिखाते हैं?

यहां सिखाते हैं, कराते हैं और उनका अभ्यास करा देते हैं कि वो जीवन में अभ्यास के इस लाभ को लेते रहें... मैं तो अपने परिसर में उन्हें हाईजीन के फायदे दिखा देता हूं कि देख लो, ये फायदे हैं... तुम्हारे दांत में दर्द था, दाँत में ठंडक लग रही थी, दांत में कोई चीज खाने में गर्म और ठंडा लग रहा था, नमक और सरसों के तेल से तीन बार आपने मालिश किया और आपका सब चीज गायब हो गया... लाभ हुआ है, तब तो आप मेरी बात मानोगे... तो मैं यहां सबको लाभान्वित करके लाभ दिखा के, लाभ का साक्षात कराके एकदम समझा देता हूं कि अब इस तरह चलोगे तो लाभान्वित रहोगे और प्रसन्न रहोगे...

exercise (hindi): 

1) नहाने से पहले क्या करना चाहिये?

१) बदन पर तेल लगाना चाहिये।

२) बदन को रगड़ना चाहिये।

३) बदन पर साबुन लगानी चाहिये।

४) बदन पर लेप लगाना चाहिये।

2) भोजन खाने से पहले क्या करना चाहिये?

१) पानी पीना चाहिये।

२) मिठाई खानी चाहिये।

३) हाथ को साबुन से धोना चाहिये।

४) सलाद खाना चाहिये।

3) डॉ० मोदी के अनुसार ब्रश कब करना चाहिये?

१) ब्रश खाने के बाद करना चाहिये।

२) ब्रश खाने से पहले करना चाहिये।

३) ब्रश सोने से पहले करना चाहिये।

४) ब्रश सुबह सुबह करना चाहिये।

vocabulary (urdu): 

content under development

transcription (urdu): 

content under development

exercise (urdu): 

content under development

Hyiene and Public Health Issues

mediaURI: 
About This Lesson: 
Mr. Ramphal talks about health amenities provided by the government in the area.
vocabulary (hindi): 

सरकार 

Government

प्रचार प्रसार

Publicity

साफ सुथरी

Clean

शौचालय

Toilet

तालाब

Pond

कचड़ा

Garbage

मिट्टी

Mud

सुंदरीकरण

Make it beautiful/beautify

कृषि

Farmer

खेती

Farming

उगाते

Grow

भरण पोषण

Feed the family/upbringing

transcription (hindi): 

ये बताये क्या आपके गांव में...

हूं... हूं...

जो सरकार का प्रचार-प्रसार होता है...

हूं...

जगह साफ़-सुथरी रखें...

हां...

इस तरह का होता है कुछ?

हां, साफ सफाई तो है...

क्या प्रचार-प्रसार है? देखा है कभी?

सफाई जैसे देखिये, यहां शौचालय का है...

(अस्पष्ट शब्द)

शौचालय जो घर का बना है, बन गया है, हम लोग के यहां ऐसा कोई नहीं है... दो चार दस लोग बाकी हैं, नहीं तो पूरे गांव में बन गया है... कि बाहर गंदगी ना हो...

उसके अलावा?

उसके अलावा देखिये तालाब बना है... तालाब में कोई कचड़ा ना हो...

साफ-सफाई हो...

साफ सफाई हो...

जहां से हम मिट्टी निकाल कर हम...

जो मिट्टी निकालते हैं... सरकार सुविधा की है... उसको सुंदरीकरण करा दी है अच्छे से, कि मिट्टी उसमें खराब ना हो...

इसके अलावा आप कुछ और कार्य करते हैं?

इसके अलावा कृषि का काम करते हैं अपना...

वही मैं पूछ रहा था...

कृषि का...

किस तरह का कृषि का काम करते हैं?

खेती का... जो, जैसे चावल उगाते हैं, गेहूं उगाते हैं, आलू उगाते हैं... जैसे, जो थोड़ा बहुत, थोड़ा थोड़ा करते हैं हर चीज...

उससे भरण-पोषण हो जाता है?

हो जाता है...

परिवार का...

हां, परिवार के लिये पूरा, बहुत कुछ हो जाता है...

बहुत अच्छी बात है... धन्यवाद...

exercise (hindi): 

1) गाँव में स्वास्थय के लिये सरकार ने क्या किया?

१) शौचालय बनवाया

२) तालाब बनवाया

३) तालाब की मिट्टी का सुंदरीकरण करवाया

४) सब

2) परिवार के भरण पोषण के लिये वह क्या करते हैं?

१) चावल उगाते हैं

२) गेहूँ उगाते हैं

३) आलू उगाते हैं

४) सब उगाते हैं

vocabulary (urdu): 

content under development

transcription (urdu): 

content under development

exercise (urdu): 

content under development

Syndicate content